1. Home
Nitin Agrawal on 19 December 2016
Share on Facebook

Roadways dwara anubandhit restaurant ke baare me

सर, मेरा नाम नितिन अग्रवाल है। आज हरिद्वार से रामनगर आ रहे थे की ड्राइवर ने जसपुर से पहले संगम रेस्टोरंट पर बस रोक दी। हमने 1 कोल्ड ड्रिंक की बोटल 2 पत्ते छोले 1 आमलेट माँगा । आर्डर के बाद जब बिल देखा तो बहुत गुस्सा आ गया। सभी चीज इतनी महँगा लगा रखा था। हमने ढाबे वाले से बात की तो वो टैक्स का बहाने बनाने लगा जबकि कच्चे बिल में कोई टैक्स नही लगा रखा था। सर, आप लोगो के प्रॉफिट के चक्कर में हम लोगो को भुगतना पड़ता है। आपके ड्राइवर लोग तो फ्री में खाते है बिल हमारी जेब से बसूल जाता है। महोदय में आपसे निवेदन करता हूँ की आप संगम जैसे सभी resturant से अपने अनुबंध खत्म करें और ऐसे resturant से अनुबंध करें जो कम से कम प्रिंट रेट पर तो माल बेचे। महोदय अगर आपने इस पर कोई कार्यबाही नही की 15 दिन के अंदर तो में आपको बता दूं में क्या क्या कर सकता हूँ जो आप सोच भी नही सकते। ये हमारे अधिकार की बात है आपको कार्यबाही करनी होगी। धन्यबाद नितिन अग्रवाल